शहीद प्रतिमाओं का खर्च उठाए सरकार: जयहिंद मंच ने किया भूमि पूजन

दूधवा में भव्य प्रतिमा लगेगी शहीद सतीश की
चरखी दादरी(भिवानी)। गांव दूधवा में अमर शहीद सतीश की प्रतिमा स्थापित करने के लिए जयहिंद मंच द्वारा भूमि पूजन समारोह आयोजित किया गया। इस समारोह में सानिध्य बालाजी जोहड़ी वाले मंदिर के महंत चरणदास का रहा। कार्यक्रम में हवनयज्ञ का आयोजन कर प्रतिमा स्थल का नींव पत्थर रखा गया। इस अवसर पर शहीद परिवार के सदस्य भी मौजूद थे। इस मौके पर जयहिंद मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुरेश शर्मा व राष्ट्रीय महासचिव नवीन जयहिंद ने बताया कि जयहिंद मंच द्वारा शहीदों को सम्मान देने के लिए शहीदों की प्रतिमा की स्थापना करवाई जा रही है। अब तक बीरण, कान्हड़ा, बड़ेसरा, रानीला, बख्तर खेड़ी समेत अनेक गांवों में प्रतिमाएं स्थापित करवाई जा चुकी हैं। इसी कड़ी में गांव दूधवा में सुबेदार सतीश की प्रतिमा स्थापना के लिए आज हवन यज्ञ का कार्यक्रम आयोजित किया गया। शीघ्र ही दूधवा के ग्राम विकास भवन के सामने शहीद की भव्य प्रतिमा लगवाई जाएगी। उन्होंने बताया कि शहीदों की प्रतिमाओं की स्थापना का खर्च सरकार द्वारा वहन करने की मांग को लेकर गत दिनों वे सांसद धर्मबीर सिंह, मुख्यमंत्री मनोहरलाल, जनरल वीके सिंह, रक्षा मंत्री मनोहर पारिकर व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह से भी मिले थे। उक्त नेताओं ने सकारात्मक रूख दिखाते हुए शीघ्र ही इसे अमल में लाने की बात कही थी। महंत चरणदास ने कहा कि शहीदों की बदौलत ही आज हम सुरक्षित हैं। इसलिए शहीदों को पूरा मान सम्मान देना चाहिए। उन्होंने जयहिंद मंच के इस अभियान की प्रशंसा की। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जयहिंद मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुरेश शर्मा व राष्ट्रीय महासचिव नवीन जयहिंद ने शहीद के परिवार को आश्वस्त किया कि जयहिंद मंच उनके हर सुख व दुख में साथ रहेगा। इस मौके पर शहीद सतीश के पिता अत्तर सिंह, वीर नारी सुशीला देवी, शहीद की दादी छोटी देवी, शहीद के बेटे नरेंद्र, बेटी संगीता व सुमन, सरपंच प्रतिनिधि रमेश कुमार, जगदीश नंबरदार, राष्ट्रपति अवार्डी अशोक भारद्वाज, महीपाल आर्य रूदड़ौल, मंच के राष्ट्रीय परिषद के सदस्य सुरेंद्र आर्य, बिशन सिंह आर्य, हवाचंद, राजेंद्र, आचार्य सज्जन शास्त्री, डीएसपी भूप सिंह, करतार सिंह, कर्ण सिंह, होशियार सिंह, मायाराम कोच, रूपांश शर्मा, प्रमिला देवी, सुरेंद्र शर्मा, दिनेश शास्त्री, राज कौशिक, आरती समेत अनेक ग्रामीण मौजूद थे। यहां उल्लेखखनीय होगा कि तकरीबन 2 वर्ष पहले 25 जून 2013 को उत्तराखंड त्रासदी के दौरान गौरीकुंड के पास लोगों की जान बचाते हुए एक हैलीकाप्टर क्रैश हो गया था। जिसमें पांच वायुसेना तथा 18 आईटीबीपी के जवान शहीद हो गए थे। जिनमें गांव दूधवा के सुबेदार सतीश कुमार भी शामिल थे।

Read More